आधार का नया सिक्योरिटी फीचर, व्यक्ति के मरने के बाद अब नहीं निकाल सकते आधार के द्वारा अंगूठा लगाकर पैसे | Aadhaar Update New Feature

Aadhaar Update New Feature: अगर आप आधार के जरिए अंगूठा लगाकर पैसे निकालते हैं तो अब आपसे कोई धोखाधड़ी नहीं होगी इसके लिए यूआईडीएआई ने एक नया फीचर जोड़ा है इस नए फीचर से आधार के गलत इस्तेमाल को तेजी से ट्रैक किया जा सकता है। और धोखाधड़ी को रोका जा सकता है। इस नए फीचर के बारे में हम आपको पूरी जानकारी विस्तार से बताएंगे आशा करते हैं कि आप आर्टिकल को अंत तक पढ़ेंगे।

क्या है UIDAI का नया फीचर?

Aadhaar Update New Feature: अगर आप भी आधार कार्ड का इस्तेमाल करके अपने बैंक से पैसे निकालते हैं तो आपसे अब कोई धोखाधड़ी नहीं कर सकता है इसके लिए आधार की देखरेख करने वाली संस्था यूआईडीएआई ने एक नया फीचर जोड़ा है इस नए फीचर को जोड़ने के बाद पॉइंट ऑफ सेल (PoS) से पता चल जाएगा कि जिस व्यक्ति ने फिंगरप्रिंट लगा रखा है वह जीवित है या वह मर चुका है जिससे धोखाधड़ी करने वाले व्यक्ति का पता लग जाएगा और उस व्यक्ति के अकाउंट से पैसे नहीं निकाले जा सकते हैं।

अंगूठा लगाकर अभी तक कितने रुपए निकाले जा चुके हैं जाने?

Aadhaar Update New Feature: आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आधार के द्वारा लाखों लोग अंगूठा लगाकर पैसे निकालते हैं। आधार इनेबल पेमेंट सिस्टम यानी (AEPS) के जरिए अब तक 1507 करोड़ से अधिक बैंकिंग ट्रांजैक्शन हो चुके हैं। जिसमें से 7.54 लाख ट्रांजैक्शन में फर्जीवाड़ा किया गया है इस नए सिक्योरिटी फीचर्स के आने से धोखाधड़ी करने वाले फर्जी लोगों को बहुत तेजी से चेक किया जा सकेगा।

ऐसे करते हैं लोग धोखाधड़ी

Aadhaar Update New Feature: कुछ रिपोर्ट के अनुसार धोखाधड़ी के जरिए बहुत से ट्रांजैक्शन किए जा रहे हैं। उसमें असली व्यक्ति के फिंगरप्रिंट का सिलिकॉन पैड पर Clone बना लिया जाता है। यह फिंगरप्रिंट जमीन की खरीद-फरोख्त में डॉक्यूमेंट पर लिए गए उंगलियों के असली निशान से बनाया जाता है। जिससे उनके खातों से पैसे निकाल लिए जाते हैं।

UIDAI के इस कदम से रुकेगा फर्जीवाड़ा

Aadhaar Update New Feature: अब इस फीचर के द्वारा यूआईडीएआई ने आधार से जन्म मृत्यु के देवता को जोड़ने का फैसला लिया है अब नवजात शिशु को अस्थाई आधार नंबर जारी कर दिया जाएगा, बाद में इसे बायोमेट्रिक ज्यादा के साथ Upgrade किया जाएगा इतना ही नहीं व्यक्ति के मौत के बाद पंजीकरण के रिकॉर्ड को भी आधार के साथ जोड़ा जाएगा ताकि इन नंबर का दुरुपयोग ना हो सके।

Leave a Comment