श्रोडिंगर समीकरण क्या है ( What is Schordinger Equation in Hindi )

श्रोडिंगर समीकरण ( Schordinger Equation ) न्यूटन नियम तथा ऊर्जा को सरंक्षण की भूमिका करती है। अर्थात यह गतिज तंत्र के भावी व्यवहार को बताती है।  यह तरंग फलन के पदों में तरंग समीकरण है। जो स्तिथि तथा परिणाम की प्रायिकता को विश्लेषित तथा सही रूप से बताती है। 

हाइड्रोजन परमाणु के लिए श्रोडिंगर लहर समीकरण, एक विमीय संदूक में उपस्थित कण के लिए श्रोडिंजर समीकरण हल कीजिए, तरंग फलन का महत्व, पूर्ण परिणाम से निर्धारित नहीं होता है। लेकिन स्तिथि की अधिक सख्या दी जाती है, श्रोडिंगर समीकरण ( Schordinger Equation ) परिणामो का वितरण बताएगी। 

Hw = Ew

श्रोडिंगर तरंग समीकरण ( Schordinger Wave equation )

गतिज तथा विभव ऊर्जाएं हेमिल्टोनियन में बदलती है। जो समय के अनुरूप तरंग फलन को उत्पन्न करने के लिए तरंग फलन का कार्य करता है। श्रोडिंगर समीकरण की क्वांटिकरण उर्जाए देती है, तथा तरंग फलन  का रूप दर्शाती है जिससे अन्य गुण परिकलित हो सकते है। 

schordinger equation

श्रोडिंगर समीकरण

schordinger equation in hindi

Schordinger Equation Important ( श्रोडिंगर समीकरण का महत्व )

  • श्रोडिंगर समीकरण हाइड्रोजन परमाणु  तथा हाइड्रोजन के सामान हे हीलियम प्लस, लिथियम 2 प्लस स्पीशीज के लिए पूर्णतया हल हो सकती है। 
  • श्रोडिंगर समीकरण एक तरंग कार्य के समय के साथ विकास देता है , एक पृथक भौतिक प्रणाली का क्वांटम-यांत्रिक लक्षण वर्णन।
  • श्रोडिंगर समीकरण हाइड्रोजन परमाणु गोलीय सममिति रखता है। इसलिए श्रोडिंगर समीकरण को हल करने के लिए यह आसान होता है।

12th पास जॉब 

अधिक जानकारी Click now
होम पेज click
यूट्यूब चैनल Click here

Leave a Comment